मुख्तार…. तेवर, घमंडऔर अक्कड़, गाज़ीपुर के एक युवा लड़के की कहानी बताती है जो बड़ा होकर माफिया बॉस बन जाता है।

mukhtar ansari मुख्तार अंसारी

उसकी घनी मूंछें थीं, वह लंबा और अच्छी तरह से तैयार था, साफ कपड़े पहनता था, जोर से हंसता था, गरज से भी ज्यादा कांपता था, बिना किसी हिचकिचाहट के चलता था और उसकी आंखें ऐसी थीं कि किसी को भी पसीना आ जाए। माफिया का जन्म प्रभुत्व के प्रति उनके झुकाव और अपनी राह … Read more